UP Board Exam date 2021 : फरवरी नहीं, इस माह में हो सकती है यूपी बोर्ड 10वीं 12वीं परीक्षा

यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षा अप्रैल में होने की संभावना बन रही है। कोरोना काल में केंद्र निर्धारण से लेकर प्रायोगिक परीक्षा तक पिछड़ गई है। फरवरी और मार्च में प्रस्तावित पंचायत चुनाव भी बड़ी अड़चन होगा। हालांकि बोर्ड के अधिकारी अपनी तैयारी पूरी होने का दावा कर रहे हैं। यूपी बोर्ड ने 2021 की परीक्षा के लिए केंद्र निर्धारण का प्रस्ताव पहले ही शासन को भेज दिया था। पूर्व के वर्षों में अक्तूबर के दूसरे या तीसरे सप्ताह तक केंद्र निर्धारण की नीति जारी हो जाती थी। लेकिन इस साल अब तक नीति  फाइनल नहीं हो सकी है। इसके पीछे बड़ा कारण कोरोना है। अफसर यही तय नहीं कर पा रहे हैं केंद्र सोशल डिस्टेंसिंग के आधार पर तय होंगे या पूर्व के वर्षों की तरह बनेंगे।

सोशल डिस्टेंसिंग का पालन होने पर डेढ़ या दोगुने केंद्र बनाने होंगे जिससे परीक्षा का खर्च भी काफी बढ़ जाएगा। केंद्र बनाने में कम से कम डेढ़ महीने का समय लगेगा। इंटर की प्रायोगिक परीक्षा पूर्व के वर्षों में 15 दिसंबर से शुरू होकर तकरीबन एक महीने में होती थी। जबकि इस साल फरवरी के पहले या दूसरे सप्ताह में प्रैक्टिकल शुरू करने की तैयारी है, जो मार्च मध्य तक जाएगा।

यूपी बोर्ड-
-कोरोना काल में अब तक जारी नहीं हो सकी केंद्र निर्धारण नीति
-हर साल अक्तूबर के तीसरे सप्ताह तक जारी हो जाती थी नीति
– प्रायोगिक परीक्षा 15 दिसंबर की बजाय फरवरी में कराई जाएगी
-10वीं-12वीं की परीक्षा के लिए 55 लाख से अधिक छात्र हैं पंजीकृत

पिछले साल एक जुलाई को परीक्षा की समय सारिणी जारी हुई थी लेकिन इस बार अब तक टाइम टेबल को लेकर कोई चर्चा नहीं है। परीक्षा के लिए कॉपियां हर साल नवंबर में जिलों को भेजी जाती थी लेकिन इस साल दिसंबर में भेजने की तैयारी है।

UP board: यूपी बोर्ड के स्कूल छमाही परीक्षा को लेकर ऊहापोह में, पढ़ाई तो ऑनलाइन हुई, परीक्षा कैसे कराएं 

9 से 12 तक के एक तिहाई बच्चे ही आ रहे स्कूल
यूपी बोर्ड के स्कूलों में कक्षा 9 से 12 तक के एक तिहाई बच्चे ही क्लास करने पहुंच रहे हैं। जिला विद्यालय निरीक्षक आरएन विश्वकर्मा की ओर से शासन को 9 नवंबर की भेजी गई रिपोर्ट के मुताबिक जिले में 1079 माध्यमिक स्कूलों में पंजीकृत 9 से 12 तक के 418888 छात्र-छात्राओं में से 137985 (32.94%) स्कूल में उपस्थित थे। हालांकि 159305 बच्चों के अभिभावकों ने स्कूल भेजने का सहमति पत्र दिया है। इस तारीख को 12438 शिक्षक स्कूलों में उपस्थित थे। इनमें से 366 स्कूलों में प्राथमिक उपचार के लिए अटेंडेंट, नर्स, डॉक्टर, काउंसलर की व्यवस्था कर ली गई है तथा आपातकालीन परिस्थितियों में सहायता के लिए विभिन्न टास्क टीमों का गठन कर लिया गया है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *